मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य योजना राजस्थान !! Mukhaymantri chiranjivi swasthy beema yoajana rahasthan

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना राजस्थान

योजना के शॉर्ट नोट्स

प्रारंभ तिथि  – 1 मई 2021

स्वास्थ्य बीमा – 25 लाख 

दुर्घटना बीमा  – 5 लाख ( जिसमे सामान्य बीमारी 50 हजार व गंभीर बीमारी ” 4 लाख 50 हजार शामिल हे )

प्रीमियम राशि – 1750 किंतु यह राशि NFSA लाभार्थी ,लघु वी सीमांत किसान, कोविड 19 अनुग्रहित राशि प्राप्त निराश्रित परिवार , राजस्थान के समस्त संविधाकर्मी एवं सामाजिक आर्थिक जातिगत जनगणना 2011 के पात्र परिवार हेतु शून्य है बाकी परिवार से 50 % अर्थात ₹850 ही प्रीमियम लिया जाएगा 

अन्य लाभ – योजना अंतर्गत अस्पताल में भर्ती के 5 दिन पहले तथा 15 दिन बाद तक का उपचार भी शामिल है

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसी कार्यकाल में चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना लांच की है। इस योजना के तहत प्रदेश के सभी नागरिको का स्वास्थ्य बीमा कवर किया गया है। सरकारी अस्पतालों में तो इलाज, जांच और दवाएं पहले से फ्री थी। चिरंजीवी स्वास्थ्य योजना के आने के बाद 1 अप्रैल 2022 से निजी अस्पतालों में भी 10 लाख रुपए तक का इलाज फ्री हो गया 2023 के बजट घोषणा में मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि अब 25 लाख तक का इलाज कराया जा सकता है योजना की शुरुवात में ये 5 लाख रुपए था ! केंसर, किडनी और हार्ट ट्रांसप्लांट जैसी गंभीर बीमारियों को भी इस योजना के अंतर्गत लिया गया है अब गंभीर बीमारियों का इलाज भी मुफ्त में करवाया जा सकता है

प्रदेश का हर परिवार योजना में कवर्ड

राजस्थान की चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में प्रदेश का हर परिवार कवर हो रहा है। अर्थात अमीर, गरीब, नौकरीपैशा या किसान और बेरोजगार प्रदेश के हर परिवार को चिरंजीवी योजना में शामिल किया गया है। इसके लिए परिवार की महिला मुखिया के नाम से बने जन आधार कार्ड की आवश्यकता होती है। जन आधार कार्ड के जरिए परिवार को ईमित्र से या ऑनलाइन माध्यम से स्वयं भी चिरंजीवी योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। रजिस्ट्रेशन कराने के बाद निजी अस्पतालों में भी मुफ्त इलाज की सुविधा प्राप्त की जा सकती है। अस्पतालों को सरकार भुगतान करेगी।

स्वास्थ्य बीमा हेतु पात्रता 

लघु एवं सिमांत किसान, संविदाकर्मी,राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम का लाभ लेने वाले परिवार, सामाजिक और आर्थिक जनगणना के पात्र परिवार और निराश्रित एवं असहाय परिवार के लिए कोई प्रीमियम देय नहीं है। इनके अलावा अन्य परिवारों के लिए भी प्रीमियम शुल्क काफी कम है। केवल 850 रुपए वार्षिक प्रीमियम जमा करा कर पूरे परिवार का इलाज इस योजना के तहत करवाया जा सकता है। अब तक 25 लाख से ज्यादा परिवार इस योजना का लाभ प्राप्त कर चुके हैं। 2963 करोड़ रुपए का इलाज निशुल्क करवाया जा चुका है।

मुफ्त दवा, मुफ्त जांच के बाद चिरंजीवी योजना भी काफी लोकप्रिय

पूर्व में अशोक गहलोत मुफ्त दवा योजना लेकर आए थे। दूसरे कार्यकाल में गहलोत मुफ्त जांच योजना भी लेकर आए। सरकारी अस्पतालों में मुफ्त दवा और मुफ्त इलाज के प्रदेश के करोड़ों लोगों ने इसका लाभ उठाया। ये योजनाएं देशभर में चर्चित रही और कई राज्यों के अधिकारी इन योजनाओं के बारे में जानकारी लेने के लिए राजस्थान आए थे। इस कार्यकाल में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चिरंजीवी योजना लेकर आए हैं। इस योजना के अंतर्गत अब निजी अस्पतालों में भी 25 लाख रुपए तक का इलाज निशुल्क करवाया जा सकता है। यह योजना स्वास्थ्य के क्षेत्र में क्रांतिकारी साबित हुई है।

Leave a Comment